Saturday, September 20, 2008

अब छलकते हैं ...


सागर से न हुआ वफ़ा हम से, मगर लेहेरें अस्कों के अब भी उठते है
वो बूंद थे अब सागर हैं ,और पैमाने-ऐ- मोहब्बत से .....अब छलकते हैं

No comments:

Post a Comment

Srirangam Perumal.

I have always been inclined towards the spiritual and cultural heritage of Tamilnadu and the great and magnificent temple architecture and I...