Thursday, December 04, 2008

Shame on the Pakistani Prime Minister ( Coward Jardari )

What a great show of cowardness the prime minister of Pakistan has shown। On a american news channel the Basturd Jardari told that there is no connection that Pakistan is not involved in te recent terror attack in Mumbai. Answering to questions he told that the terrorists who are in India's hit list (list handed Over) won't be deported to india and they will be sued sued in Pakistani court only. पर जरदारी साब क्या आप भूल गए अभी जो धमाके हुए थे इस्लामाबाद मैं इनमे भी इन देह्शात्गार्दो का ही हाथ था। अब तो सुधर जाओ जाओ। ये आतंकी ये नहीं पिचते की तुम हिन्दुस्तानी हो या पाकिस्तानी और न तुम हिंदू या मुस्लिम। अगर कभी आपने किताबें पढ़ी हो तो ज़िन्दगी मैं भी तो अखबारें पढ़ें और जान लें की ये आतंकी भी पाकिस्तान मैं बैठे हुए हैं। और कितने सबूत चाहिए आपको जब बेनजीर की हत्या हुई तब भी नहीं सुधर रहे। तब तो अल्लाह ताला भी अगर जमीन पे अये तब भी आप की मदद नहीं कर सकते। क्यों की अल्लाह उनके साथ होता है जिनके दीमाग पे ताले नहीं लगा होता। खैरइसमे आपका कसूर नहीं है पाकिस्तानी जो ठहरे ... इन सा अल्लह वो दिन भी दूर नहीं जरदारी साब जब हम भी पड़ोसी के घर जलने पर अपना हाथ सेका करेंगे। हम अब तक शरीफ बने हुए हैं ... जिस दिन सर घूम गया और जेहाद के रास्ते हम चल दिए खुदा कसम उस दिन पाकिस्तान हिंदुस्तान का एक हिस्सा होगा और आपके जेहादी अपने गुलाम ...जरदारी साब अब भी वक्त है ॥ सुधर जाओ... अपने घर मे खाने को दाना नहीं है दूसरे के घर मे सुराग बनने की सपना अछा ना था ना है और न कभी होगा। Bankrupt घोषित हो चुका है पाकिस्तान ... अर्थव्यवस्था को संभालिये और ये जो anti india ya kashmir ko nation एजेंडा बनाया हुआ है ॥ इसको छोड़ के कोई पच्न्ह्वार्षीय जोजना बनाईये... हमतो अभी तक हुम्ला नहीं किया है आज तक कभी तो डिफेन्स पे इतना खर्च करना जरुरी नहीं ..पर हाँ आतंकवादियों तो ट्रेनिंग कैसे दोगे... सुधर जाओ और अगर सही मैंने मैं मुस्लमान हो ( जो तुम इस ज़िन्दगी मैं तो नहीं बन सकते) तो नमाज़ का सही हक अदा करो वरना क़यामत मे दिन जन्नत तो क्या जमीन भी नसीब नहीं होगा...

No comments:

Post a Comment

Samajh jata hun teri khamoshi magar..

Samajh leta hun main  khamoshi teri magar , Rok lun chahat ko apni ye bhi tujhse suna hai.