Friday, July 11, 2008

भले ये पल चंद ही सही


उम्मीद भी न थी हमें की आप ऐसे गए

जैसे उमर की आड़ मैं लोग नही कई जिंदगी भी भूल गए

न जाने किस मोड़ पे हूँ यूँ छोड़ देंगे साथ जिंदगी का

चल तू साथ भले ये पल चंद ही सही ॥

No comments:

Post a Comment

Shirdi ke Sai,mere sai...

I was in the ground floor of my office to meet and discuss an issue in recruitment. I was returning and saw Suresh on his desk and we sha...