Thursday, April 21, 2011

लोकपाल बिल और social networking websites


कुछ दिन पहले अपने तरह का एक अलग मुहीम देखने को मिला जिस से हर वो आम आदमी जुड़ा हुआ मिला और वो अपने लिए नहीं भ्रष्टाचार के खिलाफ बन ने वाली लोकपाल बिल के लिए लड़ rahe the. "India against Corruptin" नामक एक संथाके अगवाई में आना हजारे दिलली के जंतर मंतर में आमरण अनशन में बैठ गए थे। एक ७२ साल के बुज़ुर्ग को ऐसा करते देख जैसे सारा हिंदुस्तान जाग गया था और लोग हर मज़हब, हर प्रान्त और हर श्रेणी से उनके साथ खड़ा हुआ दिखा। बाबा रामदेव से लेके मासूम स्चूली छात्र भी इस मुहीम से जुड़ गए थे। समाज को समर्पित समाज सेवको से लेके मुझ जैसे नौकरी पेशा लोग भी उस मुहीम से अपने आप को जोड़ने से रोक नहीं पाए। अन्ना के अनशन के समय कोई मोमबत्तियां जला के तो कोई हाथो में लिए अपना विरोध प्रदर्शन कर रहे थे । और इन सब में social networking websites की भूमिका भी उल्लेखनीय रही। ऑरकुट से लेके फसबूक तक हर जगह लोग अपना समर्थन प्रकास कर रहे थे तो कहीं एक दुसरे को इस मुहीम से जुड़ने के लिए आमंत्रण दे रहे थे। कुछ हो न हो इन सोसिअल नेट्वोर्किंग वेबसीतेस ने कुछ तो अछा काम किया है। साधारन मिडिया के अलावा सोसिअल नेट्वोर्किंग वेबसीतेस आज कल एक ताकतवर संजोयक का काम बखूबी निभा रही है। इन सब जागरूक लोगों के वजह से ही लोकपाल बिल की बनावती कमिटी का गठन हो गया और हमें उम्मीद है की सबकी उचित पदक्षेप और सहायता इ एक साक्ष्यं और ससक्त कानून बनेगा और कहीं किसी तरह हम भ्रस्ताचार से निपट सकें॥


जय हिंद...

No comments:

Post a Comment

Social network is not only Social now, its personal and beyond 👍 👍

There has been much discussion on the use of social media and its effect on individual's health. But when there is more than a billion...