Monday, February 23, 2015

है कुछ मंज़िलें बाकी

अभी  संभाला है होश हमने और है कुछ मंज़िलें बाकी 
आ देखें ज़िन्दगी तेरा क्या किस्सा क्या माज़रा …

No comments:

Post a Comment

Samajh jata hun teri khamoshi magar..

Samajh leta hun main  khamoshi teri magar , Rok lun chahat ko apni ye bhi tujhse suna hai.