Wednesday, June 13, 2012

Do boond ke liye bhi ek fatwa...wah re islam....

आज रेडिफ. कॉम पर एक न्यूज़ पढ़ा तो ऐसा लगा की मैं किस ज़माने मैं हूँ और फिर मुझे अपने इस धरती पे जन्म लेने पे गर्व मेहसूस हुआ .
ऐसा क्यूँ ....

उस खबर मैं लिखा था के पाकिस्तान के मुज्जफर्गढ़ मैं एक मौलवी ने पोलिओ  की इलाज़ खातिर दिए जाने वाले दो बूँद देने वालो के खिलाफ जिहाद की घोषणा की है।

क्या इतन काफी नहीं है मेरे हिन्दुस्तानी होने पे गर्व करने पे ???

यहीं कारण है की मुझे मुल्लोह से नफरत है।

दिल से बोलूं तो मुझे लगता है की  इनका  बस  चले तो कुरान  से कहीं ना कहीं से ढूंड के बता देंगे के ये देखो इधर लिखा है की पोलिओ की बूद भी ज़हर है और इनको जिहाद की इजाज़त देती है। अरे इन का बस चले तो यह हरामखोर सांस लेने वालो के लिए भी फतवा जारी करेंगे ...

खैर अल्लाह बचाए ऐसे फतवे से .....

No comments:

Post a Comment

Social network is not only Social now, its personal and beyond 👍 👍

There has been much discussion on the use of social media and its effect on individual's health. But when there is more than a billion...