Thursday, August 04, 2011

काश .यह. मुमकिन होता,...

 
                                          काश ...
कुछ दिनों क लिए दुनिया से चले जाना मुमकिन होता,
                                          क्यों की 
सुना है की लोग बहत याद करते हैं मर जाने के बाद.....

1 comment:

  1. वाह!
    ----
    कल 08/08/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete

Social network is not only Social now, its personal and beyond 👍 👍

There has been much discussion on the use of social media and its effect on individual's health. But when there is more than a billion...